Friday, October 16, 2009

चुनरी के दाग़

चुनरी के दाग़ -
अचानक लगा मैं हूँ ,
पर अपने से भिन्न !
सब कुछ घूमता हुआ
सारा बिगत, प्रत्यक्ष घटता हुआ !
शुरू से आखीर तक का सफ़र
त्वरित, गुज़र गया सामने से !
*
दर्शक मात्र रह गई अपनी ही यात्रा की !
देख लिया ,
लगे हैं दाग़ मेरी चुनरी में !
और निकट प्रस्थान की बेला !
*
क्षण-क्षण साक्षी मेरे,
जीवन भर रगड़-रगड़ माँजते रहे तुम,
नत-शिर ग्रहण करती रही,
तुम्हारा अवदान,
मन ही मन मनाते कि इतनी अशान्ति न व्याप जाये
जो आपा खो उभ्रान्त हो उठूँ,
बहक जाऊँ,बिखर जाऊँ अनजान दिशाओं में !
*
चूनर मेरी घिस गई ,
हो गई बेरंग जर्जर,
ताने-बाने रहे बिखर,
ऊपर से जमे हुये ये छींटे !
जो पीर औरों ने झेली मेरे कारण,
उड़-उड़ वही कण, मटमैला कर गये ,
ओढ़ कर आई थी जो स्वच्छ चूनर !
*
जाने-अनजाने जैसा भी,
किया तो मैंने ही !
शूल सा चुभ रहा अब !
नहीं, क्षमा नहीं,
कोई क्षमा नहीं !
कर लेने दो निवारण !
नहीं सहा जायेगा इतना बोझ ,
जन्म-जन्मान्तर झुका छोड़ जाये जो !
*
ओ रे ,घटवासी
धो लेने दो जाने से पहले ,
दे दो , अवसर परिमार्जन का !
नहीं तो कैसे करूँगी सामना !
कहाँ टिकूँगी तुम्हारी उज्ज्वलता के आगे !
*
कोरे अश्रुजल से नहीं धुलेंगे ये दाग़,
कर्मों का साबुन घिस-घिस ,
रगड़ने दो थोड़ा और !
थोड़ा और मँज लेने दो ,
हो लेने दो निर्मल !
*
यह ओढी हुई चूनर उतार,
रख जाऊँ यहीं !
कि जब सामना हो तुमसे ,
मेरे अंतर्यामी,
झेल सकूँ वह प्रखर तेज ,
सिर उठा कर देख सकूँ ,
वह स्नेहिल मुस्कान ,
और आत्मसात् कर सकूँ
दिव्यता का अमृत प्रसाद !

1 comment:

  1. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete